पहले भेजे पैसे, फिर वापस करने के लिए कहा…चुटकियों में कंगाल कर देगा ये SMS स्कैम!

पिछले कुछ समय में, ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामले बढ़ रहे हैं, खासकर UPI और डिजिटल भुगतान के माध्यम से। इसी क्रम में, बेंगलुरु की एक बिजनेसवुमेन, अदिति चोपड़ा, यूपीआई स्कैम का शिकार हो गईं। उन्होंने सोशल मीडिया पर अपनी आपबीती साझा करते हुए लोगों को सावधान रहने की अपील की है।

क्या हुआ?

अदिति ऑफिस में काम कर रही थीं, तभी उन्हें एक अनजान नंबर से कॉल आया। फोन करने वाले ने बुजुर्ग आवाज में कहा कि वह अदिति के पिता हैं और उन्हें तुरंत पैसे भेजने की जरूरत है। उन्होंने बताया कि उनके बैंक खाते में कुछ समस्या है, इसलिए वह अदिति के माध्यम से पैसे भेजना चाहते हैं। उन्होंने अदिति का मोबाइल नंबर भी कन्फर्म किया।

कुछ ही देर में, अदिति के फोन पर दो SMS आए। पहले SMS में उनके खाते में ₹10,000 जमा होने का मैसेज था, और दूसरे में ₹30,000 जमा होने का। इसी दौरान, फोन पर बातचीत जारी थी।

अचानक, कॉल करने वाले ने घबराते हुए कहा कि उन्होंने गलती से ₹30,000 भेज दिए, जबकि उन्हें केवल ₹3,000 भेजने थे। उन्होंने अदिति से अनुरोध किया कि वह बाकी के ₹27,000 तुरंत वापस कर दें, क्योंकि उन्हें डॉक्टर को पैसे देने हैं।

अदिति को अपने पिता की आदत पता थी, वह पैसों के मामले में हमेशा सतर्क रहते हैं और छोटी रकम के लिए भी कई बार पुष्टि करते हैं। इसलिए, उन्हें शक हुआ। उन्होंने तुरंत अपना बैंक खाता चेक किया और एक मिनट के अंदर ही वापस कॉल करने की कोशिश की, लेकिन कॉल करने वाले ने उनका नंबर ब्लॉक कर दिया था।

सीख:

अदिति की इस घटना से हमें यह सीख मिलती है कि हमें कभी भी किसी अनजान नंबर से आए SMS या कॉल पर भरोसा नहीं करना चाहिए। धोखेबाज अक्सर ऐसी ही योजनाओं का इस्तेमाल कर लोगों को फंसाते हैं।

यहां कुछ सावधानियां दी गई हैं जो आपको UPI स्कैम से बचा सकती हैं:

  • अपना UPI PIN या CVV किसी के साथ साझा न करें।
  • अनजान नंबरों से आए कॉल या SMS पर संदेह करें।
  • किसी भी लेनदेन को करने से पहले, OTP को ध्यान से पढ़ें और पुष्टि करें।
  • केवल विश्वसनीय ऐप्स और वेबसाइटों से ही लेनदेन करें।
  • अपने बैंक खाते और लेनदेन पर नियमित रूप से नज़र रखें।
  • यदि आपको कोई संदिग्ध गतिविधि दिखाई देती है, तो तुरंत अपने बैंक को सूचित करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *