सोना रिकॉर्ड पर, लेकिन चांदी देगी ज्यादा मुनाफा! क्या है विशेषज्ञों का अनुमान ?

सोना अपनी चमक खो चुका है? जी हाँ, ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक़, चांदी अब सोने से आगे निकल सकती है पिछले साल सोने ने 20% की शानदार रैली दी थी, जबकि चांदी 14-15% ही चमक सकी थी। लेकिन अब हालात बदल रहे हैं।

चांदी की तेज़ी के पीछे क्या वजह है?

  • उद्योगों की बढ़ती मांग: चांदी का इस्तेमाल कई उद्योगों में होता है, जैसे इलेक्ट्रॉनिक्स, सोलर पैनल और ऑटोमोबाइल। दुनियाभर में अर्थव्यवस्थाओं के पटरी पर लौटने के साथ इन उद्योगों की मांग भी बढ़ रही है, जिसका सीधा फायदा चांदी को मिल रहा है।
  • अंतरराष्ट्रीय बाज़ार: चांदी को वैश्विक अनिश्चितता और भू-राजनीतिक तनावों का भी सहारा मिल रहा है। इन वजहों से निवेशकों का रुझान सुरक्षित पनाहगाहों की तरफ बढ़ रहा है, और चांदी भी इसी श्रेणी में आती है।

क्या सोना पूरी तरह से फीका पड़ जाएगा?

ऐसा बिलकुल नहीं है। सोने को हमेशा से ही सुरक्षित पनाहगाह माना जाता रहा है, और यह अपनी चमक खोने वाला नहीं है।

लेकिन, विशेषज्ञों का मानना है कि अगले एक साल में चांदी 15-20% तक चमक सकती है और 1 लाख रुपये प्रति किलो के ऐतिहासिक स्तर को छू सकती है। वहीं, सोने में 3-5% की ही वृद्धि का अनुमान है।

तो, क्या आपको चांदी में निवेश करना चाहिए?

यह फैसला आपके निवेश के लक्ष्यों और जोखिम सहनशीलता पर निर्भर करता है।

  • अगर आप कम समय में ज़्यादा रिटर्न चाहते हैं, तो चांदी आपके लिए बेहतर विकल्प हो सकती है।
  • लेकिन, अगर आप दीर्घकालिक निवेश चाहते हैं और जोखिम कम रखना चाहते हैं, तो सोना बेहतर विकल्प होगा।

चांदी और सोना दोनों ही कीमती धातुएं हैं और इनमें निवेश करने के अपने फायदे और नुकसान हैं।

आपको निवेश करने से पहले अपनी रिसर्च ज़रूर करनी चाहिए और अपनी ज़रूरतों के हिसाब से फैसला लेना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *